Loading

Enquiry
articale
digital advertising
Contact Form

स्मार्ट होम क्या है

गृह स्वचालन, घरेलू उपकरणों व आवासीय स्थानों में स्वचालन के लगातार बढ़ते प्रयोग के विषय में होता है। यह शब्द इमारत स्वचालन के लिये भी इस्तेमाल किया जाता है, इसमें वातानुकूलन, प्रकाश व्यवस्था, निगरानी व सुरक्षा, दरवाजों तथा खिड़कियों आदि पर आवागमन दृष्टि आदि  सम्मिलित होते हैं। इस तरह के उपकरणों व प्रणाली को गृह स्वचालन से सुसज्जित गृह को स्मार्ट होम की संज्ञा दी जाती है। विदेशों में स्मार्ट होम्स का चलन तेजी बढ़ रहा है। स्मार्ट होम्स, ऐसे घर जहां ज्यादातर चीजें तकनीक से चलती है। बटन दबाने पर वहां कई कार्य एक साथ हो जाते हैं। पूरा घर एक स्मार्ट होम नियंत्रक के संकेत ही पर चलता है। यह नियंत्रक एक रिमोट की भांति कार्य करता है जिससे घर का तापमान आदि भी व्यवस्थित किया जा सकता है। भविष्य में स्मार्ट होम्स की सफलता इस बात पर ही निर्भर करेगी कि वह कितने बिना गलती के काम कर सकते हैं। स्वचालित गृह को सुचारू रूप से चलाने पर घर के लोगों के समय तथा पैसे की बचत होती है। एक अच्छी गृह स्वचालन प्रणाली में कई प्रकार की सुविधाओं का मिश्रण होता है जैसे बगीचे में आवश्यकता के अनुसार पानी पहुंचाना या फिर पानी गर्म करने के साधन का कार्य पूरा होते ही खुद ही स्विच ऑफ हो जाना या फिर किसी कमरे का तापमान परिवार के सदस्यों की आवश्यकता के अनुसार स्थिर रखना है। इस तरह स्वचालित गृह मितव्ययी भी हो सकते हैं। जिन घरों में छोटे बच्चे व बुजुर्ग होते हैं उनकी सुरक्षा के लिए स्वचालन प्रणाली में चौकन्ने अलार्म प्रणाली होती हैं। यहां तक की परिवार के लोगों के घर में न होने पर भी ये घर अपने कार्य में तैनात रहता है। यह घर सिर्फ सुरक्षा ही नहीं बल्कि आराम देने का भी कार्य करते हैं। इस तरह  के होम ऑटोमेशन सिस्टम से पूरे घर की विद्युत व्यवस्था पर भी नियंत्रण किया जा सकता है। इसमें टच स्क्रीन एलसीडी मॉनीटर लगे होते हैं जिसपर पूरी इमारत को देखा जा सकता है और एक जगह से विद्युत उपकरणों पर नियंत्रण रखा जा सकता हैं। गति को पहचानने वाले मोशन सेंसर द्वारा कमरे में किसी की उपस्थिति होने या फिर न होने पर प्रकाश खुद ही खुल या बंद हो जायेगा। इसमें एक मुख्य रिमोट कंट्रोल भी होता है जिसकी मदद से वातानुकूलन व दूरदर्शन के साथ ही प्रकाश व्यवस्था आदि को भी नियंत्रित किया जा सकता है। घर की सुरक्षा में सिक्युरिटी सिस्टम भी सुचारु रूप से रहते हैं। इनमें निकटदर्शी कैमरा, बायोमैट्रिक लॉकिंग सिस्टम तथा  बर्गलर अलार्म भी लगा होता है। तिजोरी आदि या फिर किसी कमरे तक पहुंचने पर, चहारदीवारी लांघने पर यह अलार्म तेज सायरन के साथ बज उठते हैं। यदि स्वामी घर से बाहर हैं तो उनके मोबाइल फोन पर एसएमएस के द्वारा संदेश आ जाता है।
इन घरों में रहने वालों लोगों को खिड़कियों के पर्दे खींचने के लिए या फिर दरवाजे बंद करने के लिए अपने स्थान से उठना नहीं पड़ता, जरूरत पड़ने पर एक बटन दबाने से ये कार्य पूर्ण हो जाते हैं। कुछ लोगों को ये सुविधाएं पसंद आती हैं लेकिन कुछ लोगों का मानना है कि इनसे शारीरिक क्रिया में रुकावट आती है और लोगों की आरामतलबी की आदत में वृद्धि होती है। लेकिन ये सुविधाएं उन लोगों के लिए बहुत अच्छी होती हैं जो शारीरिकतौर पर असक्षम होते हैं। सुविधाओं के मिलने पर भी इस प्रणाली का रखरखाव महंगा व लगातार खर्चीला होता है क्योंकि ये घर तकनीक पर आधारित होते हैं और इनमें छोटे-छोटी मरम्मत की जरूरत पड़ती रहती है।

 


Binoculars/Information