Loading

Enquiry
articale
digital advertising
Contact Form

घर में सुखी रहने के वास्तु नुस्खे

मनुष्य के विकास एवं कल्याण के लिए वास्तु शास्त्र प्रमुख स्थान रखता है । इसका कारण यह है कि भाग्य पर सभी संस्कृति के लोग विश्वास करते है । भाग्य का निर्धारण लौकिक अथवा देवी शक्तियां करती हैं, अतः इन सब पर किसी का नियंत्रण नहीं रहता । इन कारकों का हमारे व्यक्तित्व के विकास से गहरा सम्बन्ध है। मकान में सुख - शांति पूर्वक रहना सभी के भाग्य में नहीं होता। लेकिन कुछ नुस्खे अपना कर काफी हद तक सुखी रह सकते है ।

अपने शयनकक्ष में हल्के रंगों का पेंट रखना चाहिए ।

आवाज करने वाले पंखे, दरवाजे और खिड़कियाँ नहीं होनी चाहिए । इससे गृह-क्लेश उत्पन्न होता है।

सूर्य उदय से पहले आँगन की सफाई करे।

लक्ष्मी जी के धनागम के लिए सुबह उठते ही मुख्यद्वार की चौखट सीचें (जल से) अति उपयोगी फाइलें तथा कोर्ट की फाइलें आदि पूर्व दिशा की अलमारी में रखें।

सेंधे नमक का पौछा रसोईघर में नित्य लगाएँ।

तन-मन की शांति के लिए रात्रि को सोते समय सुगन्धित सामंग्री का प्रयोग अवश्य करना चाहिए।

वर्ष में एक बार नवग्रह हवन जरूर कराएँ।