• Article Image

    कोविड-19 से प्रभावित स्टूडेंट्स के लिए फिर से आयोजित होगी प्रैक्टिकल परीक्षा

    Posted by -

    केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) ने कक्षा 10 और कक्षा 12 के वैसे स्टूडेंट्स को राहत दी है, जो कोविड-19 महामारी से प्रभावित होने के कारण प्रैक्टिकल परीक्षा में शामिल नहीं हो सके थे। इस संबंध में सीबीएसई ने अपनी आधिकारिक वेबसाइट पर एक सर्कुलर जारी किया है। जिसमें कहा गया है कि यदि कोई उम्मीदवार कोविड पॉजिटिव होने या परिवार के किसी भी सदस्य- माता, पिता, भाई, बहन के कोरोना पॉजिटिव रहने की वजह से प्रैक्टिकल एग्जाम में अनुपस्थित रहे हैं, उनके लिए फिर से प्रैक्टिकल परीक्षा आयोजित की जाएगी।

    संबंधित स्कूल इन उम्मीदवारों के लिए बाद में प्रैक्टिकल परीक्षा आयोजित करेंगे, हालांकि प्रैक्टिकल एग्जाम को 11 जून से पहले पूरा कर लेना होगा। स्कूलों द्वारा संबंधित क्षेत्रीय कार्यालय के परामर्श से उचित समय पर ऐसे उम्मीदवारों की प्रैक्टिकल परीक्षा आयोजित की जाएगी। इससे पहले, कोरोनोवायरस महामारी को देखते हुए, सीबीएसई ने स्टूडेंट्स को अपने प्रैक्टिकल और साथ ही थ्योरी परीक्षाओं के लिए केंद्र बदलने की अनुमति दी थी। इस संबंध में सीबीएसई की आधिकारिक वेबसाइट, cbse.gov.in पर एक सूचना जारी की गई थी। सूचना में कहा गया था कि स्टूडेंट्स एक अलग केंद्र से प्रैक्टिकल और थ्योरी परीक्षा के लिए आवेदन कर सकते हैं। जो स्टूडेंट्स अपने परीक्षा केंद्र में बदलाव करना चाहते हैं, उन्हें 25 मार्च, 2021 तक संबंधित स्कूलों में आवेदन भेजना के लिए कहा गया था।
    बता दें कि सीबीएसई ने स्कूलों को 1 मार्च को प्रैक्टिकल परीक्षा और अन्य गतिविधियों जैसे- प्रोजेक्ट और आंतरिक मूल्यांकन शुरू करने की अनुमति दी थी और इस प्रक्रिया को 11 जून तक पूरा करने के लिए कहा गया था। सीबीएसई ने स्कूलों को निर्देश दिया था कि वे प्रैक्टिकल परीक्षा और मूल्यांकन पूरा होने के बाद तुरंत मार्क्स अपलोड करें। हालांकि, जो छात्र पुन: परीक्षा के दौरान प्रैक्टिकल के लिए उपस्थित होंगे, उनके मामले में स्कूल मैनुअल अवार्ड लिस्ट के माध्यम से क्षेत्रीय कार्यालय को मार्क्स भेजेंगे। विस्तृत जानकारी के लिए आधिकारिक वेबसाइट, cbse.gov.in पर जा सकते हैं। गौरतलब है कि सीबीएसई 10वीं कक्षा की सैद्धांतिक परीक्षा का आयोजन 4 मई से 7 जून, 2021 तक और कक्षा 12 की परीक्षा का आयोजन 4 मई से 14 जून, 2021 तक किया जाना है।