Enquiry
articale
digital advertising
Contact Form

पानी के अंदर का वो सीक्रेट मिशन, धरती पर खौफ खाता है दुश्मन


 
 किसी देश की रक्षा में नौसेना की अहम भूमिका होती है। भारत के लिए पनडुब्बी (सबमरीन) की जरूरत इसलिए है, क्योंकि चीन लगातार अपनी मौजूदगी हिंद महासागर में बढ़ा रहा है। पनडुब्बी का मिशन इतना गुप्त होता है कि कई बार नौसेना के जवानों को भी नहीं पता होता है कि उन्हें किस मिशन पर भेजा जा रहा है। ऐसे में नौसेना के जवान किस तरह पानी के अंदर पनडुब्बी में अपने मिशन को अंजाम देते हैं 
सबमरीन में कार्य करना शायद दुनिया का सबसे कठिन कार्य होता है। सबमरीन एक कम स्पेस वाली विडोंलेस जगह होती है, जो कि 300 फीट समुद्र की गहराई में काम करती है और देश को भविष्य के खतरों से सचेत करती हैं। आईएनएस सिंधुध्वज एक 13 किलो क्लास सबमरीन है, जो कि भारतीय नौसेना में तैनात है। सबमरीन के अंदर सबसे पहले खुद की सुरक्षा जरूरी होती है। दरअसल, सबमरीन में कम स्पेस वाली एक जगह होती है, जो कि उपकरणों से भरी होती है, ऐसे में अपने सिर को बचाना जरूरी होता है। आमतौर पर जब कोई सबमरीन के अंदर जाता है, तो उसको सारी चीजें पता होती हैं।
पानी के अंदर का वो सीक्रेट मिशन, धरती पर खौफ खाता है दुश्मन