Loading

Enquiry
Enquiry
digital advertising
Contact Form

फ्लिपकार्ट ने हर रोज गंवाए 14 करोड़ रुपये, घाटे का रहा वर्ष 2016

वित्त वर्ष 2016, दिग्गज ई-कॉमर्स कंपनी फ्लिपकार्ट के लिए बहुत खराब रहा। इस वर्ष के दौरान कंपनी को हर रोज 14 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ जानकारी के अनुसार बेंगलुरु बेस्ड कंपनी ने टैलेंट व नए ग्राहकों को आकर्षित करने के लिए बहुत पैसा खर्च किया, जिससे उसके घाटे में वृद्धि हुई।
इकोनॉमिक टाइम्स में छपी खबर के अनुसार ऑनलाइन रिटेल मार्केट में तेजी से बढ़ने वाली  फ्लिपकार्ट का सीधा मुकाबला अमेरिका की दिग्गज कंपनी एमेजॉन से था। आपको ज्ञात हो कि पिछले वित्त वर्ष में फ्लिपकार्ट ने अपना रेवेन्यू बढ़ाकर 15,403 करोड़ रुपये तक ले जाने में सफल रही थी। सिंगापुर में रजिस्टर्ड फ्लिपकार्ट की होल्डिंग कंपनी की रेग्युलेटरी फाइलिंग्स से यह जानकारी प्राप्त हुई है।

वर्ष 2015-16 में बहुत सुस्त पड़ी ग्रोथ
वित्त वर्ष 2015-16 में, कंपनी की रेवेन्यू ग्रोथ बहुत सुस्त पड़ गई थी और उसके लाभ में भी गिरावट देखने को मिली थी। वित्त वर्ष 2014-2015 में, कंपनी का रेवेन्यू 10,245 करोड़ रुपये था और उसका लाभ नेगेटिव 25 पर्सेंट तक चला गया था। साल 2015-16 में, सैलरी व स्टॉक बेस्ड कॉम्पेंसेशन 124 % बढ़कर, 1,880 करोड़ रुपये पहुंच गया था। कंपनी का बिजनेस प्रमोशन पर व्यय भी दोगुना होकर 1,100 करोड़ रुपये रहा। इस कारण उसके घाटे में वृद्धि  हुई। इस खबर के लिए ईमेल से पूछे गए प्रश्नों का फ्लिपकार्ट ने उत्तर नहीं दिया था।
बेंगलुरु बेस्ड कंपनी ने 2015 में, अंतिम बार फंड जुटाया था और तब उसकी कीमत करीब 15 अरब डॉलर लगाई गई थी। कंपनी के सीईओ बिन्नी बंसल ने पिछले महीने कहा था, ‘हम फिस्कल ईयर 2018 में, तेज ग्रोथ के साथ दाखिल होने जा रहे हैं।’